Inner Page Banner

लौंग

अंतिम अद्यतन 12-11-2015, 10:37 HRS
लौंग image

लौंग

वानस्पतिक नाम

सिज़िजियम ऐरौमैटिकम

परिवार

मिरटेसी

वाणिज्यिक अंग

बन्द कली

विवरण

वाणिज्यिक लौंग एक सदाबहार मध्यम आकार के वृक्ष से प्राप्त वायुशुष्कित अनखिली कली है । यह वृक्ष 10-12 मीटर ऊँचाई तक बढता है और लगभग सातवीं साल में इसमें फूल आने लगते है । इसमें 80 या उससे अधिक वर्षों तक कलियाँ आती रहती हैं । यह पूर्वी देशों का एक मूल्यवान मसाला है । कलियों पर जब एक स्पष्ट गुलाबी चमक दिखाई पडती है, तब हाथों से लौंग तोड लिए जाते हैं और कई दिनों तक धूप में सुखाए जाते हैं। अनखिली कलियों, पत्तों व ठंडलों से वाष्पशील तेल पाए जाते है।

व्युत्पत्ति और प्रसारण

The plant is indigenous to North Molucca Islands of Indonesia. It is also grown in Zanzibar, Madagascar, Malaysia, Sri Lanka and India. The tree prefers well drained rich soil with sufficient soil moisture throughout the year. High atmospheric temperature (25 to 35 degree C) with heavy sun light, good and well-distributed rainfall (above 150 cm) and high humidity (above 70%) are preferred.इसका व्युत्पत्ति स्थान इन्दोनेशिया के नॉर्थ मोलुक्का द्वीप है । ज़ंज़िबार, मेडागास्कर , मलेशिया, श्रीलंका और भारत में भी यह बढाया जाता है । इसका पौधा अच्छी जलनिकास वाली, सालभर पर्याप्त नमी वाली मृदा पसंद करता है। उच्च अन्तरिक्ष तापमान (25-30 डिग्री सेन्टिग्रेड) सहित कडी धूप, अच्छी और सुवितरित वर्षा (150 से.मी. से अधिक) और उच्च आर्द्रता (70% से अधिक) अनुकूल है ।

उपयोग

साबुत या पेषित रूप में लौंग का प्रयोग मुख्यत: पाक प्रयोजनों तथा खाद्या उद्याोग में सुवास कारक के रूप में होता है । इसका सुवास मधुर एवं स्वादिष्ठ व्यंजनों में अच्छी तरह मिल जाता है । वातहर, सगंध एवं उत्तेजक के रूप में यह दवाओं में बडा महत्वपूर्ण है । इन्दोनेशिया में, इसके उत्पादन का ज्यादातर हिस्सा 'क्रेटैक' सिगरेट बनाने केलिए प्रयुक्त किया जाता है । लौंग तेल के प्रतिरोधी तथा प्रतिजैविक गुणों से दवाओं में, खासकर दन्त चिकित्सा, मुख एवं ग्रसनी संबन्धी उपचार में लाभ उठाया जाता है । टूथपेस्ट और माउथवैश, साबुन तथा इत्रों के निर्माण में इसका बहुतायत प्रयोग किया जाता है। मधुमेह में शर्करा के परिपाचन में इसके सहायक रहने की रिपोर्ट भी है।

भारतीय नाम

हिन्दी - लंग बंगला - लवंग गुजराती - लवंगा कन्नड - लवंग मलयालम - ग्राँपू मराठी - लुवाँग उडिया - लबंग पंजाबी - लौंग संस्कृत - लवंग तमिल - किराम्बू, लवंगं तेलुगु - लवंगलु उर्दू - लौंग

विदेशी नाम

Arabic : Kabsh ,Qarunfil Chinese : Ding xiang French : Clou de girofle Indonesian : Cengkeh German : Nelke