मसाला: छोटी इलायची, नीलाम की तारीख: 05-Dec-2019, नीलामकर्ता: Cardamom Planters' Association, Santhanpara, लोटों की संख्या: 94, आवक की मात्रा(कि.ग्रा.): 15129.8, बिकी मात्रा (कि.ग्रा.): 13258, अधिकतम मूल्य (रु./कि.ग्रा.): 2996.00, औसत मूल्य (रु./कि.ग्रा.): 2796.47 मसाला: छोटी इलायची, नीलाम की तारीख: 05-Dec-2019, नीलामकर्ता: The Cardamom Processing & Marketing Co-Operative Society Ltd, Kumily, लोटों की संख्या: 278 , आवक की मात्रा(कि.ग्रा.): 66537.5, बिकी मात्रा (कि.ग्रा.): 64395.7, अधिकतम मूल्य (रु./कि.ग्रा.): 3168.00, औसत मूल्य (रु./कि.ग्रा.): 2834.62 Spice: Large Cardamom, Date: 05-Dec-2019, Market: Singtam, Type: Badadana, Price (Rs./Kg): 438, Spice: Large Cardamom, Date: 05-Dec-2019, Market: Singtam, Type: Chotadana, Price (Rs./Kg): 400, Spice: Large Cardamom, Date: 05-Dec-2019, Market: Gangtok, Type: Badadana, Price (Rs./Kg): 450, Spice: Large Cardamom, Date: 05-Dec-2019, Market: Gangtok, Type: Chotadana, Price (Rs./Kg): 400, Spice: Large Cardamom, Date: 05-Dec-2019, Market: Siliguri, Type: Badadana, Price (Rs./Kg): 520, Spice: Large Cardamom, Date: 05-Dec-2019, Market: Siliguri, Type: Chotadana, Price (Rs./Kg): 407,
Inner Page Banner

इमली

अंतिम अद्यतन 12-11-2015, 13:44 HRS
इमली image

इमली

वानस्पतिक नाम

टैमरिन्डस इण्डिका एल.

परिवार

सेसालपिनिएसी

वाणिज्यिक अंग

शिंबियाँ

विवरण

इमली के पेड का पका फल एक मसाले के रूप में प्रयुक्त होता है। यह एक अपेक्षाकृत मध्यम से बडे आकार वाला 24 मीटर ऊँचाई और 7 मीटर घेरा तक बढनेवाला सदाबहार वृक्ष है। इसकी छाल भूरी या गहरी धूसरी, लम्बाई एवं समस्तर में दरार वाली है। पत्ते समपिच्छकी 15 से.मी. लंबे, 10-20 जोडी पर्णक, दीर्घायत, 8-30 मि.मी.आकार वाले फूल छोटे, गुलाबी रेखाओंवाले आपीत, शिम्बियाँ, 7.5 - 20 से.मी. लंबी, 2.5 से.मी. चौडी, 1से.मी. घनी, बीजों के बीच प्राय: निकुंचित थोडा टेढा, बभ्रूनुमा रंगवाले हैं। बीज 3-12 दीर्घायत, सम्पीडित 1.5 से.मी. वाले गहरे भूरे चमकीले हैं। अंत:फलभित्ति हल्की भूरी, मीठी या अम्लीय, खाद्य गरी शाखित काष्ठीय तंतुओं की आड-भित्तिवाली है।                                      

व्युत्पत्ति और प्रसारण

इमली मडगास्कर से उदत्रभूत है और अब यह व्यापक पैमाने पर भारत, म्यानमार , बंगलादेश, मलेशिया, श्रीलंका, थाइलैंड, कई अफ्रीकी, मध्य अमरीकी एवं दक्षिण अमरीकी राष्ट्रों में बढाई जाती है। भारत में मूख्य रूप से यह मध्यप्रदेश, आन्ध्र प्रदेश, तमिलनाडु एवं कर्नाटक में बढाई जाती है। मिट्टी की दृष्टि से यह पेड खास अपेक्षा नहीं रखता है। लेकिन गहरी जलोढ ज़मीन में खूब पनपता है। इस पेड केलिए गरम आबोहवा वरीय है परन्तू बर्फ संवेदी है। इमली कम वर्षावाले उपोष्णीय इलाकों केलिए लायक है । यह लवणीय, क्षारीय एवं कणिकामय मिट्टियों एवं मृदा अपरदनवाली मिट्टियों में भी बढ सकती है ।

उपयोग

इमली का गूदा कई खाद्यों की तैयारी में प्रयुक्त होता है। यह वाइन जैसे पेयों की तैयारी का कच्चा माल है। इमली की गरी का चूर्ण अपने चिक्कणन गुणों के तहत वस्त्र, मिष्ठान्न, प्रसाधन एवं औषध निर्माण उद्योगों में प्रयुक्त पाया जाता है। इसका बीजावरण रंजन एवं चर्मशोधन उद्योग में प्रयुक्त होता है। इसके कोमल पत्ते एवं फूल सब्जी के रूप में काम में लाए जाते हैं। औषधों में क्षुधावर्ध्दक, मृदुविरेचक, कृमि-रोधी के रूप में प्रयुक्त होता है। यह फ्लूरोसिस के विरुध्द भी प्रयुक्त होता है।

भारतीय नाम

असमिया: तेतेली बंगाली : तेंतुल गुजराती : आमली कन्नड : हूली i काश्मीरि: तंबारी मलयालम : पुली, वालन पुली हिन्दी : इमली उड़िया : डालिमा पंजाबी : इमली संस्कृत : तिंतिरी, आमली तमिल ; पूली तेलुगू : चिंतपांडु

विदेशी नाम

Arabic : Tamr al-hindi Burmese : Ma-gyi-thi Chinese : Da ma lin Czech : Tamarind Dutch : Tamarinde French : Tamarin German : Tamarinde Italian : Tamarindo Japanese : Tamarindo Spanish : Tamarindo